दरभंगा हवाई अड्डा की सुविधाओं में हो विस्तार

दरभंगा हवाई अड्डा की सुविधाओं में हो विस्तार

दरभंगा हवाई अड्डा की सुविधाओं में हो विस्तार

मुख्यमंत्री ने केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री को लिखी चिट्ठी

माननीय मुख्यमंत्री, बिहार श्री नीतीश कुमार द्वारा माननीय केंद्रीय नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार), भारत सरकार श्री हरदीप सिंह पुरी को दरभंगा एयरपोर्ट में मूलभूत सुविधाएं एवं अन्य आवश्यक कार्यों को लेकर अर्ध सरकारी पत्र लिखा गया है जिसमें उन्होंने केंद्रीय नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री से दरभंगा एयरपोर्ट की सुविधाओं में विस्तार करने हेतु कहा है कि दरभंगा एयरपोर्ट चालू होने के पश्चात कम समय में ही इस एयरपोर्ट का काफी लोग प्रयोग करने लगे हैं और भविष्य में इस एयरपोर्ट के विकास की काफी

संभावनाएं हैं। यदि यहाँ आधारभूत संरचनाओं का और विकास हो एवं यात्रियों के लिए मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराई जाए तो शीघ्र ही यह एयरपोर्ट बड़ी संख्या में लोगों को संपर्कता प्रदान कर सकता है। उन्होंने दरभंगा एयरपोर्ट के विकास से जुड़े ऐसी ही कुछ बिंदुओं की और ध्यान आकृष्ट कराते हुए कहा है कि दरभंगा एयरपोर्ट का नाम कवि कोकिल *”विद्यापति”* के नाम पर रखने का प्रस्ताव लंबित है। दरभंगा में 24 दिसंबर 2018 को एयरपोर्ट के शिलान्यास कार्यक्रम के दौरान उन्होंने दरभंगा एयरपोर्ट का नामकरण

*”विद्यापति एयरपोर्ट”* करने का प्रस्ताव दिया था और कार्यक्रम में उपस्थित तत्कालीन केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री श्री सुरेश प्रभु ने इस पर अपनी सहमति दे दी थी। उन्होंने केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री को अवगत कराते हुए कहा है कि *”विद्यापति”* केवल कवि मात्र नहीं थे बल्कि वे बिहार और मिथिला के लोगों के दिलों में बसते हैं। मिथिलावासियों के साथ-साथ मेरी भी भावना है कि दरभंगा एयरपोर्ट को *’विद्यापति एयरपोर्ट’* के नाम से अधिसूचित किया जाये*। उन्होंने आगे कहा है कि हवाई यात्रियों की बढ़ती मांग के मद्देनजर दरभंगा से उड़ानों की संख्या बढ़ाने और अन्य विमानन कंपनियों की सेवाओं को दरभंगा एयरपोर्ट से जोड़ने की जरूरत है। दरभंगा का देश के कुछ और प्रमुख शहरों से संपर्कता स्थापित करने के लिए सीधी विमान सेवा उपलब्ध कराना आवश्यक है। यात्रियों की सुविधाओं के मद्देनजर यहाँ स्थायी टर्मिनल भवन के निर्माण के लिए एयरफोर्स की चिन्हित भूमि को दरभंगा एयरपोर्ट को अविलंब हस्तांतरित करने हेतु केंद्र सरकार के स्तर से यथोचित कार्रवाई

अपेक्षित है। इस क्रम में, राज्य सरकार द्वारा एयरफोर्स के लिए जरूरी 31 एकड़ भूमि के अधिग्रहण की धनराशि आबंटित भी कर दी गई है। उन्होंने कहा है कि दरभंगा एयरपोर्ट को एक अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट (कार्यों सहित) के रूप में विकसित किए जाने की आवश्यकता है। इसके लिए एयरपोर्ट के विस्तार के साथ-साथ यहाँ रात्रि में भी विमानों के आवागमन की सुविधा (नाइट लैंडिंग फैसिलिटी) उपलब्ध कराने और जाड़े के मौसम में धुंध की वजह से कम दृश्यता की समस्या के निदान के लिए आवश्यक उपकरण अधिष्ठापित करने की जरूरत है। दरभंगा एयरपोर्ट की चहारदीवारी की ऊंचाई काफी कम है और परिसर के बाहर से भी हवाई जहाज को आसानी से देखा जा सकता है, जो सुरक्षा के दृष्टिकोण से उचित नहीं है। चहारदीवारी को वांछित ऊंचाई तक बढ़ाने के लिए प्रक्रिया अविलंब शुरू की जानी चाहिए। यदि आवश्यक समझा जाता है और केंद्र सरकार द्वारा अनापत्ति प्रदान की जाती है, तो राज्य सरकार भी इस कार्य को कर सकती है। माननीय मुख्यमंत्री, बिहार द्वारा माननीय केंद्रीय नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार), भारत सरकार से अनुरोध किया गया है कि दरभंगा एयरपोर्ट पर यात्रियों की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए उपरोक्त वर्णित लंबित/आवश्यक कार्यों को शीघ्र संपन्न कराने का आदेश संबंधित अधिकारियों को दिया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!