माननीय मुख्यमंत्री, बिहार श्री नीतीश कुमार द्वारा कोरोना महामारी की रोकथाम हेतु देश भर में लागू लॉक डाउन के चलते संकट की घड़ी में जरूरतमंद लोगों के लिए सरकार द्वारा प्रदान की जा रही खाद्यान्न एवं नगद सहायता राशि वितरण की जिलावार समीक्षा की गई।

माननीय मुख्यमंत्री, बिहार श्री नीतीश कुमार द्वारा कोरोना महामारी की रोकथाम हेतु देश भर में लागू लॉक डाउन के चलते संकट की घड़ी में जरूरतमंद लोगों के लिए सरकार द्वारा प्रदान की जा रही खाद्यान्न एवं नगद सहायता राशि वितरण की जिलावार समीक्षा की गई।

माननीय मुख्यमंत्री ने कहा है कि कोरोना महामारी पर नियंत्रण के लिए लॉक डाउन सबसे कारगर तरीका साबित हो रहा है। इसलिए सभी लोग अपने-अपने घर में ही रहें। सरकार द्वारा सभी जरूरी सेवाओं को घर घर तक पहुंचाने के लिए कई उपाय किये जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि पल्स पोलियो टीकाकरण अभियान की तर्ज पर सभी व्यक्तियों को घर-घर जाकर स्वास्थ्य परीक्षण हेतु अभियान चलाई जाये। कहा कि यह सुनिश्चित होनी चाहिए कि सरकार द्वारा घोषित 01-01 हजार रूपये सभी राशन कार्डधारियों को प्राप्त हो जाये। उन्होंने सभी जिला एवं अनुमण्डलीय अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवा सामान्य करने का भी निदेश दिया।
हिदायत दिया गया कि खाद्यान्न की कम मात्रा देने वाले डीलरों को तुरंत हटाकर उनके विरूद्ध कठोर कार्रवाई की जाये। घोर आपदा की घड़ी में गरीबों के साथ अन्याय करने वाले डीलरों को कदापि बर्दाश्त नहीं की जा सकती है।

उन्होंने कहा है कि राशन कार्ड के पेंडिग एवं रिजेक्टेड आवेदनों की पुनर्समीक्षा कर पात्र लाभुकों को राशन कार्ड निर्गत की जाय ताकि संकट की घड़ी में उसे सरकार से सहायता प्राप्त हो सके।
कहा कि किसानों की समस्याओं को उच्च प्राथमिकता देकर निराकरण की जाये। गेहूं की अधिप्राप्ति तुरंत प्रारंभ हो ताकि किसानों को फसल की अच्छी कीमत प्राप्त हो सके। उन्होंने कहा है कि 20 अप्रैल के बाद मनरेगा योजना, नल-जल योजना, गली-नाली पक्कीकरण योजना, फ्लड प्रोटेक्शन वर्क आदि का क्रियान्वयन प्रारंभ की जाये, ताकि अधिक से अधिक लोगों को रोजगार प्राप्त हो सके।
उन्होंने कहा कि आंगनवाड़ी केन्द्रों में पोषाहार का वितरण योजना एवं स्कूलों में मध्याह्न भोजन योजना के लाभुकों को ससमय नगद राशि प्रदान की जाये।
माननीय मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी पर नियंत्रण हेतु देश भर लॉक डाउन किया गया है। यह सभी लोगो के हित में उठाया गया कदम है। इसलिए जो व्यक्ति जहाँ हैं वह वहीं रहें। अगर उन्हें कोई तकलीफ हो रही है तो हेल्पलाइन नम्बर पर सूचना दें। अबतक लाखों लोगों को सहायता पहुंचाई गई हैं।
समीक्षा के क्रम में जिला पदाधिकारी, दरभंगा डॉ. त्यागराजन एस.एम. द्वारा बताया गया कि कोरोना महामारी की रोकथाम हेतु स्वास्थ्य विभाग के गाइडलाइन के अनुसार सारे कार्य सफलता पूर्वक संपादित किये जा रहे हैं।
कहा कि माह मार्च में विदेश यात्रा कर वापस लौटे सभी लोगों की स्क्रीनिंग कराई गई है। कोरोना के लक्षण वाले कुल 195 व्यक्तियों की जांच कराई गई है। इसमें से सभी व्यक्तियों का जांच रिपोर्ट निगेटिव आया है। कहा कि निदेशानुसार पल्स पोलियो अभियान की तर्ज पर स्वास्थ्य कर्मियों के द्वारा घर-घर जाकर लोगों की स्क्रीनिंग की जा रही है। अबतक 16 हजार से अधिक घरों में 01 लाख से अधिक लोगों की स्क्रीनिंग की गई है।
कहा कि डी.एम.सी.एच. सहित अनुमण्डलीय एवं रेफरल अस्पतालों को पूर्ण क्रियाशील कर दिया गया है। जिला में पर्याप्त संख्या में एम्बुलेंस उपलब्ध है। लॉक डाउन अवधि में राज्य के बाहऱ से आये अप्रवासी मजदूरों एवं अन्य लोगों को उनके गांव/वार्ड के स्कूल में क्वारंटाइन कराया गया एवं 14 दिनों तक मेडिकल सर्विलेंस पर रखा गया । जिन लोगों का 14 दिन पूरा हो गया उन्हें उनके अपने घर भेज दिया गया है। कहा कि आज की तिथि में 121 क्वारंटाइन सेन्टर क्रियाशील है, जिसमें 942 अप्रवासी मजदूर आवासित है। इनलोगों को भोजन, आवासन एवं चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है।
उन्होंने कहा कि जिला में कुल 13 आपदा राहत केन्द्र भी चलाया जा रहा है। जहाँ बेघर/बेसहारा लोगों को आश्रय एवं भोजन पानी उपलब्ध कराया जा रहा है। उन्होंने बताया कि माह अप्रैल का नियमित खाद्यान्न के साथ एक माह का अतिरिक्त मुफ्त खाद्यान्न का वितरण पूरी पारदर्शिता के साथ कराया जा रहा है।
कहा कि खाद्यान्न वितरण कार्य का सघन अनुश्रवण कराया जा रहा है। गड़बड़ी करने वाले डीलरों के विरूद्ध धड़-पकड़ अभियान चलाया जा रहा है। अबतक 12 पी.डी.एस. डीलरों की अनुज्ञप्ति रद्द कर उनके विरूद्ध थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है।
क्हा कि बैंको में ग्राहको की भीड़ को नियंत्रित करने हेतु टोकन सिस्टम लागू कराया गया है एवं वहाँ सोशल डिस्टेसिंग का पालन कराया जा रहा है। इसके साथ ही यहाँ डाक घर की आधार लिंक मोबाईल ए.टी.एम. सेवा प्रारंभ की गई है। कहा कि डाक घर के 373 शाखाओं के माध्यम से भी राशि की निकासी हो रही है।
कहा कि 85 प्रतिशत् हार्वेस्टिंग का कार्य पूरा हो गया है, बाकि 15 प्रति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!