111 शराब अड्डों के साथ अपराध में भी पंचायत को टॉप कराना चाहता है सांसद अशोक यादव का परिवार:नज़रे आलम

111 शराब अड्डों के साथ अपराध में भी पंचायत को टॉप कराना चाहता है सांसद अशोक यादव का परिवार:नज़रे आलम

111 शराब अड्डों के साथ अपराध में भी पंचायत को टॉप कराना चाहता है सांसद अशोक यादव का परिवार:नज़रे आलम

पीड़ित परिवार से मिल न्याय मिलने तक लड़ाई लड़ने का संकल्प लिया बेदारी कारवाँ ने* दरभंगा- पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचे ऑल इंडिया मुस्लिम बेदारी कारवां के अध्यक्ष नजरे आलम ने कहा कि दरभंगा वासियों के लिए वर्ष 2020 से भी ज़्यादा बदतर रंग दिखाने लगा है वर्ष 2021। कुछ दिन पूर्व ही दरभंगा ग्रामीण के बिजुली गांव के निवासी मो० सफी की अपराधियों द्वारा निर्मम हत्या कर दी गयी थी। प्रशासन द्वारा शुरुआती ढूल-मूल रवैय्या अपनाने के बाद छानबीन तेज़ की गई । इस मामले में अबतक तीन गिरफ्तारी हो चुकी है। श्री आलम ने बताया कि मुख्य आरोपी स्थानीय माले नेता

सूर्यनारायण शर्मा का अपना भतीजा है और इस पंचायत की मुखिया मधुबनी के पूर्व सांसद हुकुमदेव यादव की बहू और वर्तमान सांसद श्री अशोक यादव के भाई अवधेश यादव की पत्नी हैं। पीड़ित परिवार का कहना है कि मुखियाइन ने पीड़ित परिवार का हाल जानने तक कि ज़रूरत नहीं समझी। गांव वालों से मिली सूचना के मुताबिक माले नेता अपने हत्याकांड का मुख्य आरोपी भतीजा को छुड़ाने के लिए पुलिस प्रशासन पर दबाव बनाने की कोशिश कर रह है। इस पर हमारी पूरी नज़र है। हम किसी भी कीमत पर अपराधी को खुलेआम घूमने नही देंगे। श्री आलम ने कहा कि बिजुली गांव में लॉ एंड ऑर्डर की स्तिथि बहुत दयनीय अवस्था में है यहां आने पर पता चला कि यहां 111 से ज़्यादा शराब के अड्डे सांसद जी के नाक के नीचे खुलेआम चल रहे हैं और जब भी पुलिस रेड करने आती है तो यहाँ तैनात पुलिस के चौकीदार ही शराब माफियाओं को खबर करके चौकन्ना कर देते हैं। शराब माफियाओं के हौंसले इतने बुलंद हैं कि इन्हें पुलिस का कोई खौफ नहीं रह गया है उल्टा ये लोग स्थानीय लोगों को भड़काकर पुलिस के सामने कर देते हैं ताकि पुलिस अपनी करवाई नहीं कर सके। हद तो यह है कि इस हत्या में शराब विक्रेता भी है जिसने यह कबूल किया है कि सफी की हत्या से पहले हत्यारा उसके यहाँ से शराब खरीदा था। अपराध के आगे ज़ीरो टॉलरेंस की नीति अपनाने वाले श्री नीतीश कुमार की पुलिस के इस रवैय्ये से लगता है कि दरभंगा पुलिस ने सरकार को बदनाम करने की सुपारी

ले रखी है। पीड़ित की परिजनों की एक ही मांग है कि अपराधी को फांसी दी जाए। स्थानीय सरपंच इस मामले में लगातार प्रयासरत दिख रहे हैं और पीड़ित परिवार को न्याय की उम्मीद है। श्री आलम ने कहा कि गांव में अगर इसी तरह से शराब और नशा का धंधा चलता रहा तो अपराध में भी ये पंचायत टॉप पर पहुंच जाएगा। उन्होंने ज़िला प्रशासन से ये मांग की है कि वो इस मामले तुरंत संज्ञान में लेकर गांव को शराब मुक्त और पीड़ित परिवार को भय मुक्त वातावरण में न्याय दिलाने में मदद करे। वहीं उन्होंने ये भी कहा कि दुख की घड़ी में हमारा संगठन पीड़ित परिवार के साथ है और हर संभव मदद देने के लिए सदा तत्पर रहेंगे। दौर में शामिल मो० नूरैन, हीरा नेजामी, सोनू मंडल, मिथिलेश यादव, कुद्दूस सागर आदि शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!