दरभंगा लोकसभा क्षेत्र बना चर्चा का विषय, भाजपा के डॉ.समरेन्द्र सिंह या जदयू के संजय झा*

 

जैसे जैसे लोकसभा चुनाव का समय नज़दीक आ रहा है वैसे वैसे दरभंगा लोकसभा क्षेत्र की स्तिथि दिलचस्प होती जा रही है। लोकसभा चुनाव से ठीक पहले डॉ. समरेन्द्र प्रताप सिंह को भाजपा में शामिल कर भाजपा ने सबको चौंका दिया है। डॉ.सिंह को लेकर भाजपा ने जहां विरोधियों के सामने चुनौती दे दी है वहीं गठबंधन के अंदर भी संदेश दिया गया है कि भाजपा अपनी पुस्तैनी सीट दरभंगा को किसी भी स्थिति में छोड़ने नहीं जा रही है। उधर दूसरी ओर जदयू के संजय झा के इसी सीट से चुनाव लड़ने की चर्चा अलग है। बहरहाल एनडीए के दोनों दल के कार्यकर्ता असमंजस में है। विदित हो कि डॉ.सिंह दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल के अधीक्षक, प्रधानाचार्य और एनएस थिसिया विभाग के विभागाध्यक्ष रह चुके हैं और तीनों पद एक साथ संभालते रहे। इतना ही नहीं वे आर्यभट्ट विश्वविद्यालय और ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के कुलपति भी रह चुके हैं। ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय में डॉ.सिंह के कार्यकाल स्वर्णिमकाल के रूप में जाना जाता है। उस समय स्थापनाकाल से लंवित पड़े हुए शिक्षक और कर्मियों का पदोन्नति को एक झटके में संपन्न कराया। कैम्प लगाकर अवकाश प्राप्त शिक्षा कर्मियों का बकाया भुगतान करवाया। इनके तीन साल के कार्यकाल में विश्वविद्यालय में एक भी धरना-प्रदर्शन नहीं हुआ जो दर्शाता है कि ये कितने न्यायप्रिय के साथ-साथ लोकप्रिय थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!