बाहर से आये सभी व्यक्तियों का सर्वेक्षण कल तक पूरा करें : डी.एम.

बाहर से आये सभी व्यक्तियों का सर्वेक्षण कल तक पूरा करें : डी.एम.

जिला पदाधिकारी, दरभंगा डॉ. त्यागराजन एस.एम. ने सभी प्रखण्ड विकास पदाधिकारी/अंचलाधिकारी/प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को राज्य के बाहर से आये सभी व्यक्तियों का कल तक पूरा सर्वेक्षण कराकर होम क्वारंटाइन कोषांग को सूचित करने का निदेश दिया है। मामूल हो कि कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के उद्देश्य से 28 फरवरी 2020 के बाद जो भी व्यक्ति राज्य के बाहर या विदेश से यहाँ आये हुए है, उन सभी व्यक्तियों का सर्वेक्षण कराया जा रहा है। सर्वेक्षण के कार्य में आशा कार्यकर्ता, ए.एन.एम. को लगाया गया है।

बाहर से आये व्यक्तियों का सर्वेक्षण के लिए 24 मार्च तिथि निर्धारित की गई थी, लेकिन कुछ प्रखण्डों में आज पूरा-पूरा सर्वेक्षण नहीं हो पाया। इस कारण कल दोपहर तक छूटे हुए गाँवों में सर्वेक्षण कराने हेतु निदेशित किया गया है।


वहीं सरकार के निदेशानुसार किसी बीमार व्यक्ति के बारे में दूरभाष नम्बर 104 पर सूचना मिलने पर उनके घर डॉक्टरों की टीम भेजकर उसे चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है।
जिला नियंत्रण कक्ष के प्रभारी उप विकास आयुक्त डॉ. कारी प्रसाद महतो द्वारा बताया गया कि टॉल फ्री नम्बर 104 पर प्राप्त सभी सूचनाओं का सघन अनुश्रवण किया गया। उन सभी गाँवो में डॉक्टरों की टीम भेजकर संबंधित व्यक्तियों को चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराई गई। चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराने हेतु सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में राउड द क्लॉक डॉक्टरों/मेडिकल स्टाफ्स का रोस्टर तैयार किया गया है। किसी व्यक्ति में कोरोना के लक्षण के बारे में सूचना प्राप्त होते ही डॉक्टरों की टीम वहाँ भेजकर उनकी जाँच की जा रही है। उन्होंने बताया कि केवटी प्रखण्ड के लालगंज गाँव में संदिग्ध व्यक्ति की जाँच कराई गई। उनकी स्थिति सामान्य पाई गई।
जिलाधिकारी द्वारा सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को हिदायत दिया गया है कि बाहरी व्यक्तियों के जाँच में अगर किसी में कोरोना के लक्षण पाये जाये तो उस व्यक्ति को एम्बुलेंस में दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भेजी जाये। उन्होंने ये बातें कार्यालय प्रकोष्ठ में आयोजित बैठक में कही हैं।
जिलाधिकारी द्वारा आज संध्या में सभी प्रखण्डां में सर्वेक्षण प्रगति की समीक्षा किया गया। सदर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र की प्रगति अत्यंत असंतोषजनक पाये जाने पर उन्हें प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी पद से तत्काल हटाये जाने का निदेश सिविल सर्जन को दिया गया। उनके वेतन भुगतान पर भी रोक लगाने का निदेश दिया गया।
जिलाधिकारी ने कहा है कि सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र/अस्पताल में आपातकालीन सेवा चालू रखी जायेगी, लेकिन ओ.पी.डी. बंद रहेगा। पी.एच.सी./अस्पताल में आने वाले मरीजों की जाँच आपातकालीन वार्ड में ही की जायेगी। सिर्फ गंभीर मरीज को डी.एम.सी.एच. रेफर किया जायेगा। कहा कि अनावश्यक रूप से सभी मरीजों को डी.एम.सी.एच. रेफर कर देने पर संबंधित प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी के विरूद्ध कठोर कार्रवाई की जायेगी।
इस बैठक में अपर समाहर्त्ता विभूति रंजन चौधरी, उप विकास आयुक्त डॉ. कारी प्रसाद महतो, नगर आयुक्त घनश्याम मीणा, जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी राजीव रंजन प्रभाकर सहित सभी कोषांगों के वरीय/नोडल पदाधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!