दरभंगा एम्स को केंद्र सरकार का झटका!

दरभंगा में एम्स निर्माण के बिहार सरकार के प्रस्ताव को केंद्र सरकार की ना, दरभंगा मे या अन्य शहर में केंद्र ने की 200 एकड़ जमीन की मांग। दरभंगा: उत्तर बिहार के दूसरे एम्स के निर्माण पर ग्रहण लग गया है, फिलहाल पूर्व मे घोषित दरभंगा एम्स के निर्माण को केंद्र सरकार ने ठुकरा दिया है। मालूम हो की दरभंगा मेडिकल कॉलेज को दो हिस्सों में बाटकर एम्स और दरभंगा मेडिकल कॉलेज को तैयार करने का प्रस्ताव राज्य सरकार ने केंद्र को भेजा था।

प्रस्ताव के अनुसार डीएमसी के मौजूदा परिसर में से 200एकड़ जमीन एम्स निर्माण के लिए केंद्र को हस्तांतरित किया जाना था, वहीं बचे परिसर मे सफदरजंग की तरह दरभंगा मेडिकल का विकास किया जाता। दरभंगा या किसी अन्य शहर का नये सिरे से केंद्र को, भेजे राज्य सरकार प्रस्ताव। केंद्र सरकार ने लो लैंड और जल जमाव की समस्या, एम्स के लिए आवंटित जमीन के बगल से रेल लाइन की मौजूदगी के साथ ही दरभंगा मेडिकल कॉलेज मे कई एतिहासिक धरोहरों और प्रमुख सड़क के गुजरने को प्रमुख कारण गिनाते हुए, फिलहाल प्रस्तावित क्षेत्र में एम्स निर्माण को अंसभव बताया हैं। मालूम हो की दरभंगा मेडिकल कॉलेज परिसर मे एम्स निर्माण को ले हाल में ही केंद्र की ओर से जमीनी स्तर पर सर्वे करने टीम दरभंगा आयी थी, जिसकी रिपोर्ट को आधार बनाते हुए एम्स के प्रस्ताव को खारिज करने की बात कही जा रही हैं। दरभंगा एयरपोर्ट और दरभंगा मेडिकल कॉलेज मे मुफ्त मे 200 एकड़ जमीन उपलब्ध होने के कारण राज्य सरकार की पहली पसंद।

मालूम हो की एयरपोर्ट, रेलवे और सड़क की बेहतरी कनेक्टिविटी को एम्स के चुनाव मे अहम कारण माना गया था। इसके अलावा दरभंगा मेडिकल कॉलेज मे 200 एकड़ जमीन उपल्बध होने, अधिग्रहण पर लगने वाले करोड़ों रूपये और अधिग्रहण के झंझट ना होने के चलते राज्य सरकार की भी दरभंगा मेडिकल कॉलेज पहली पसंद रही हैं। दरभंगा मे एम्स निर्माण की घोषणा उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने हाल में ही दरभंगा एयरपोर्ट शिलान्यास कार्यक्रम के दौरान भी की थी। एम्स की योजना फिर अंधरे मेंं केंद्र की ओर से दरभंगा एम्स के प्रस्ताव पर ना, पर स्वास्थ्य सचिव ने फिलहाल चिट्ठी मिलने की बात कहते हुए जल्द ही इस के समाधान की बात कही। स्वास्थ्य सचिव संजय कुमार के अनुसार कुछ आपत्ति के गलत होने के साथ, बाकी आपत्तियों के हल की बात भी कही। फिलहाल नये घटनाक्रम मे चार से लटके एम्स निर्माण की योजना अधर मे लटक गयीं हैं।

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=556761118102958&id=554228915022845

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!