बिहार में 1 लाख 6 हजार मतदान केंद्र होंगे। चुनाव की कैसी होंगी तैयारियां विस्तार से पढ़ें

*चुनाव की तैयारी को लेकर की गई ऑनलाइन बैठक*
*मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने की ऑनलाइन मीटिंग*

दरभंगा, 24 अगस्त 2020 , मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी, बिहार श्री एच.आर श्रीनिवास ने आगामी बिहार विधानसभा आम चुनाव 2020 को लेकर सभी जिला निर्वाचन पदाधिकारी के साथ ऑनलाइन समीक्षा बैठक की।
उन्होंने बिहार के सभी जिला निर्वाचन पदाधिकारी को संबोधित करते हुए कहा की कोविड-19 के संक्रमण से बचाव व सुरक्षा के मद्देनजर आगामी चुनाव के लिए भारत निर्वाचन आयोग द्वारा दिए गए मार्गदर्शन के आलोक में राज्य, जिला एवं विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र स्तर तक के लिए एस. ओ. पी बनाना है।
मतदान केंद्र के लिए मास्क, सैनिटाइजर, पेपरगल्बस के संबंध में गाइडलाइन बनाना होगा।
उन्होंने कहा कि मतदान केंद्रों का सेनेटाइजेशन का काम ग्राम पंचायत के माध्यम से कराया जाए। मतदाता मास्क पहनकर मतदान केंद्र पर आएंगे। उन्होंने कहा कि कोविड 19 को देखते हुए सामाजिक दूरी बनाए रखने हेतु सभी जिलों में मतगणना के लिए अतिरिक्त वज्रगृह की जरूरत पड़ेगी। यदि एक ही वज्रगृह में पर्याप्त स्थान है, तो ठीक है, नहीं तो अतिरिक्त भवन की जरूरत पड़ेगी।
उन्होंने सभी जिला निर्वाचन पदाधिकारी को इसके लिए पर्याप्त स्थल वाला अतिरिक्त बड़ा भवन चिन्हित कर लेने के लिए निर्देश दिए।
उन्होंने कहा कि इस बार कोविड 19 के मद्देनजर निर्वाचन कार्य मे सामाजिक दूरी बनाए रखने की जरूरत है। इसलिए प्रशासन को चुनाव कार्य एवं प्रत्याशियों को चुनाव प्रचार के लिए बड़े बड़े मैदान की जरूरत पड़ेगी। इसलिए एक आदमी के लिए 3 फिट के रेडियस में स्थान की आवश्यकता के आधार पर प्रत्येक विधानसभा वार
उपलब्ध मैदानों की क्षमता का आकलन करते हुए चिह्नित कर लिया जाए।
उन्होंने बताया कि पूरे बिहार में 1 लाख 6 हजार मतदान केंद्र है, जिसके लिए 6 लाख 70 हजार मतदान कर्मियों की आवश्यकता पड़ेगी।
चुकी इस बार मतदान केंद्रों की संख्या अधिक है, इसलिए मतदान केंद्रों पर महिला मतदान कर्मियों को भी नियुक्त करना पड़ेगा। महिलाओं को शहरी क्षेत्र एवं नगर परिषद क्षेत्र में नियुक्त जा सकता है।
इसके लिए महिला कर्मियों के डाटा की प्रविष्टि करा लेने का निर्देश दिया गया।
उन्होंने कहा कि निर्वाचन आयोग द्वारा संविदा पर नियुक्त कर्मी को भी नियमित सरकारी कर्मी माना जा रहा है इसलिए उन्हें भी चुनाव कार्य में लगाया जाएगा, लेकिन उन्हें माइक्रो ऑब्जर्वर, पीठासीन पदाधिकारी एवं दंडाधिकारी के पद पर नियुक्त नहीं किया जाएगा।
एडहक कर्मचारी को मतदान कार्य में नहीं लगाया जाएगा।
उन्होंने जिलावार एन.वी.एस.पी पोर्टल पर लंबित फॉर्म-6,7,8 एवं 8-A के निष्पादन की समीक्षा की तथा सभी जिला निर्वाचन पदाधिकारी को अपने मतदान कर्मियों और संस्थानों के डाटा का शत प्रतिशत अपडेशन कर लेने का निर्देश दिया।
इसके अतिरिक्त डिस्ट्रिक्ट कम्युनिकेशन प्लान, सेक्टर दंडाधिकारी की प्रतिनियुक्ति, मतदाता जागरूकता हेतु स्वीप प्लान, कम्युनिकेशन प्लान, कम्युनिकेशन शैडो जोन,पीडब्लूडी जिला अनुश्रवण समिति की मासिक बैठक, चुनाव हेतु वाहन का आकलन, स्नातक निर्वाचन क्षेत्र के फॉर्म 18 का सत्यापन एवं विगत चुनावों के दौरान दर्ज प्राथमिकी की जिलेवार समीक्षा की गयी।
उन्होंने सभी जिला निर्वाचन पदाधिकारी को कहा कि वर्तमान में जिले बनाए गए सभी अतिरिक्त मतदान केंद्र के लिए बी. एल. ओ की नियुक्ति कर ली जाए।
ऑनलाइन बैठक में जिलाधिकारी डॉ त्यागराजन एस.एम, सिटी एसपी श्री योगेंद्र कुमार, सहायक समाहर्त्ता सुश्री प्रियंका रानी, अपर समाहर्त्ता श्री विभूति रंजन चौधरी जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी श्री राजीव रंजन प्रभाकर, विशेष विशेष कार्य पदाधिकारी श्री अजय कुमार, उप निदेशक जनसंपर्क नागेंद्र कुमार गुप्ता,भूमि सुधार उप समाहर्त्ता सदर श्री सादुल हसन, उप निर्वाचन पदाधिकारी श्री पुष्कर कुमार उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!