डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेन्टर का डी.एम. ने किया निरीक्षण 100 बेड का कोविड हेल्थ सेंटर बनाया जा रहा है

डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेन्टर का डी.एम. ने किया निरीक्षण
100 बेड का कोविड हेल्थ सेंटर बनाया जा रहा है

दरभंगा, 03 अगस्त, 2020 :- जिला स्कूल के परीक्षा भवन के तीसरे तल पर कोविड-19 के पॉजिटिव मरीजों के लिए 100 बेड वाला डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेन्टर का संस्थापन अंतिम चरण में है। दो हॉल में कुल 100 बेड का हेल्थ सेन्टर बनाया जा रहा है। प्रत्येक बेड के साथ बी0 टाइप ऑक्सीजन सिलिण्डर सम्बद्ध किया गया है। जिसमें 144 किलोग्राम ऑक्सीजन रहता है और यह 04 से 05 घंटे तक एक व्यक्ति को ऑक्सीजन प्रदान कर सकता है।
जिलाधिकारी ने निरीक्षण के दौरान इसकी जाँच स्वंय की। उपस्थित कर्मी ने ऑक्सीजन सिलिण्डर में मीटर एवं मास्क सहित पाइप लाइन लगाकर ऑक्सीजन सप्लाई कर जिलाधिकारी को दिखलाया।

जिलाधिकारी ने संबंधित एजेंसी को पर्याप्त संख्या में मास्क रखने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि यह मास्क एक व्यक्ति के द्वारा प्रयोग किये जाने के बाद हटा दिया जाए तथा दूसरे व्यक्ति के1 लिए दूसरा मास्क लगाया जाए। उन्होंने ऑक्सीजन सिलेंडर के भरवाने की व्यवस्था रखने तथा प्रत्येक बेड पर एक वेल(घंटी) की व्यवस्था रखने के निर्देश सिविल सर्जन डॉ संजीव कुमार सिन्हा को दिए ताकि मरीज को किसी तरह की परेशानी होने पर वह घंटी बजा कर बता सके।

इस अवसर पर संवाददाताओं को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि डी.एम.सी.एच. में कोरोना पॉजिटिव मरीजों के लिए 300 बेड की व्यवस्था की गई है। इसके अलावे परीक्षा भवन में 100 बेड का डेडिकेटेट कोविड हेल्थ सेन्टर बनाया जा रहा है। जिसमें मरीजों को सारी सुविधाएँ मुहैया कराई जाएगी।

इसके उपरांत उन्होंने ड्यूटी रूम एवं कंट्रोल रूम का मुआयना किया तथा उपस्थित अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए उन्होंने पिछले दिनों कोविड-19 के मृतक के शव का निष्पादन नहीं किये जाने से संबंधित प्रसारित वीडियो को गंभीरता से लेते हुए कोविड-19 के मृतक के शव का अंतिम क्रिया क्रम करने के लिए डी.एम.सी.एच. के अधीक्षक, सिविल सर्जन कार्यालय, नगर आयुक्त एवं संबंधित अनुमण्डल पदाधिकारी को जिम्मेवार बताया। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के मृतक के शव का निष्पादन करने के लिए सरकार के स्तर से एस.ओ.पी. जारी की गई है। सभी संबंधित पदाधिकारी इसे अच्छी तरह से पढ़ कर जानकारी प्राप्त कर लें।
किसी भी कोविड मरीज की मृत्यु होने पर डी.एम.सी.एच. के अधीक्षक को शव हटवाने की जिम्मेवारी होगी। इसके लिए अधीक्षक को तुरंत अपने अस्पताल मैनेजर, नगर निगम, संबंधित अनुमण्डल पदाधिकारी को सूचित करने का निर्देश दिया गया।
उन्होंने कहा कि मृत्यु के 01 घंटे के अन्दर मृतक शरीर को मरचूरी भान से भेजने की व्यवस्था करनी है। यदि मरचूरी भान नहीं है तो एम्बुलेंस से भेजा जाए। यदि किसी परिस्थिति में परिजन शव लेने को तैयार नही है या परिजन का पता लगाने में विलम्ब होता है, तो उसे शवगृह या फ्रिजर में तुरंत रखवाने की व्यवस्था की जाए। उन्होंने कहा कि कोविड19 के मरीज की मृत्यु की सूचना संबंधित एस.डी.ओ. को तुरंत दी जाए तथा संबंधित थाना के मदद से शव का डिस्पोजल करवाया जाए।
नगर निगम क्षेत्र के लिए नगर निगम को शव दाह की जिम्मेवारी होगी। अगर शव के निष्पादन में किसी प्रकार की लापरवाही बरती जाती है तो संबंधित कर्मी को जिम्मेवार मानते हुए उनके विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई जाएगी। अंतिम क्रिया कर्म के लिए पूर्व से ही लकड़ी एवं गोइठा की व्यवस्था रखने तथा गड्ढ़ा खुदवा कर रखने की व्यवस्था करने के निर्देश नगर निगम के कर्मी राजा राम को दिया गया।
जिलाधिकारी ने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन व यूनिसेफ के द्वारा भी यह बताया गया है कि कोविड19 के मृतक के शरीर से कोरोना संक्रमण का खतरा नहीं रहता है। कोरोना संक्रमण का खतरा केवल जीवित व्यक्ति के ड्रॉपलेट्स से ही रहता है। इसलिए कोविड-19 के मृतक के शरीर से कोरोना संक्रमण का कोई खतरा नहीं है। एहतियात के लिए शव निष्पादन के समय मृतक के खुले अंग को सैनिटाइज कर दिया जाए।
इसके उपरांत नोडल पदाधिकारी, आई.टी. सेल ने व्हाट्स एप कॉल से टेलीमेडिसीन के प्रयोग के संबंध में जानकारी पावर प्वाइंट प्रजेटेशन के माध्यम से दी।
इस अवसर पर नगर आयुक्त श्री घनश्याम मीणा, सहायक समाहर्त्ता सुश्री प्रियंका रानी, अनुमण्डल पदाधिकारी सदर श्री राकेश कुमार गुप्ता, पुलिस उपाधीक्षक श्री अनोज कुमार, डी.एम.सी.एच.अधीक्षक श्री मणी भूषण शर्मा, सिविल सर्जन डॉ. संजीव कुमार सिन्हा, वरीय उप समाहर्त्ता श्री गौरव शंकर व सुश्री पुष्पिता झा एवं डी.पी.एम. (हेल्थ) श्री विशाल कुमार उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!