जेडीयू विधायक अमरनाथ गामी ने थामा राजद का हाथ, लड़ सकते हैं दरभंगा नगर क्षेत्र से चुनाव

Politics

जेडीयू विधायक अमरनाथ गामी ने थामा राजद का हाथ, लड़ सकते हैं दरभंगा नगर क्षेत्र से चुनाव

दरभंगा में दूसरे और तीसरे चरण में मतदान होने जा रहा है चुनाव की तारीख नजदीक होने के कारण दलबदल में भी भी तेजी आ गई है जदयू विधायक अमरनाथ गामी ने राजद का दामन थाम लिया है अब दरभंगा में फराज फातमी का बदला राजद ने अमरनाथ गामी के रूप में ले लिया है जहां तक चुनाव की बात है तो गामी का दरभंगा शहर से चुनाव लड़ना तय माना जा रहा है यद्यपि खुद गामी कहां से चुनाव लड़ेंगे उस पर मौन हैं लेकिन राजद से चुनाव लड़ेंगे इसकी घोषणा उन्होंने कर दी है वैसे आज देर रात गामी यह भी घोषणा कर देंगे जैसा कि वे स्वयं कह रहे हैं गामी कहते हैं कि कल शाम तक मैंने जदयू नेतृत्व का इंतजार किया लेकिन

सकारात्मक पहल नहीं होने के कारण उन्होंने राजद का दामन थामा है जहां तक चुनाव कहां से लड़ने का प्रश्न है तो हायाघाट सीट पर माले चुनाव लड़ेगी और वो भी राजद से मिलकर तो ऐसे में शहर ही एक ऐसा जगह है जहां से गामी चुनाव लड़ सकते है राजनीतिक पर्यवेक्षक मानना है कि गामी के शहर से चुनाव लड़ने पर हायाघाट और शहर दोनों क्षेत्र पर असर पड़ेगा । जानकार ये भी बताते हैं कि अब हायाघाट और अलीनगर सीट लोजपा के खाते में जा सकता है जहां तक गामी के जनाधार का प्रश्न है तो शहरी क्षेत्र में उनका आधार मजबूत है क्योंकि वह हायाघाट के विधायक रहते हुए शहरी क्षेत्र में भी कार्य करते रहे हैं जिसका फायदा उन्हें मिल सकता है यह भी सच्चाई है कि भाजपा का शहर में परंपरागत वोटर रहा है लेकिन अमरनाथ गामी इसमें सेंध लगा सकते हैं इससे भी इनकार नहीं किया जा सकता है वैसे टिकट की घोषणा के बाद और भी दलबदल होने की संभावना है जिन विधायकों का टिकट कटेगा वह किसी दूसरे दल का दामन थाम लेंगे ऐसा भी चर्चा है कि जदयू अपने 5 में से 3 विधायकों का टिकट काट सकता है जिसके बाद स्थिति और विकट हो सकती है वैसे दरभंगा जिला में राजद को भी कम कर नहीं आंका जा सकता राजद का यह परंपरागत गढ़ रहा है लेकिन जदयू भाजपा लोजपा के एक साथ आने से एनडीए की स्थिति भी काफी मजबूत है सूत्रों से जो खबर मिल रही है उसके तहत 5 सीट पर जदयू 3 सीट पर भाजपा और 2 सीट पर लोजपा यहां से चुनाव लड़ेगी ।लोजपा के खाते में अलीनगर और हायाघाट जा सकता है अगर फ़राज़ फ़ातमी की सीट भाजपा में जाती है तो दरभंगा ग्रामीण सीट जेडीयू में जा सकती है। वैसे बहादुरपुर को लेकर भी जदयू और भाजपा में खींचतान चल रहा है जानकार कहते हैं कि 4 अक्टूबर को एनडीए के सीटों का खुलासा होगा और किस को कौन सीट मिला इसका फैसला हो जाएगा ।अगर अमरनाथ गामी दरभंगा शहर से राजद के प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ते हैं तो यहां का चुनाव काफी रोचक हो जाएगा इतना ही नहीं मुकाबला भी काँटे का होगा इससे भी इनकार नहीं किया जा सकता वैसे राजनीतिक पर्यवेक्षक मानते हैं कि सिर्फ गामी के राजद का दामन थाम लेने के कारण यहां सत्ता के समीकरण में काफी उथल-पुथल हो सकता है। जहां तक अमरनाथ गामी का बात है तो वे भाजपा के जिला अध्यक्ष रह चुके हैं उनके चाचा सतनारायण गामी निर्दलीय चुनाव लड़े थे तो जीत तो नहीं सके लेकिन भाजपा की नैया डूबा ज़रूर दी थी अमरनाथ गामी दो बार हायाघाट से विधायक रह चुके हैं एक बार भाजपा जदयू गठबंधन में तो दूसरी बार राजद जदयू गठबंधन में जिसके कारण इनका सभी दलों में पैठ है और उनका दावा है कि भाजपा और जदयू का बहुत बड़ा तबका उनका सपोर्ट करेंगे जिसका फायदा राजद को मिल सकता है जहां तक भाजपा विधायक संजय सरावगी की बात है वे लगातार चौथी बार चुनावी मैदान में उतरेंगे । और वे भी भाजपा के लिए सशक्त उम्मीदवार हैं इससे भी इनकार नहीं किया जा सकता और यही कारण है कि दरभंगा शहर में आमने-सामने की टक्कर में चुनाव होगा और कांटे का मुकाबला होगा । लेकिन सबसे बड़ी बात है करोना काल में वोटर घर से कितनी संख्या में निकल पाते हैं जिला प्रशासन मतदाता जागरूकता अभियान मुस्तैदी से चला रहा है पर संक्रमण काल में इसका कितना असर होगा यह कहना जल्दबाजी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *